गुरुवार, 16 अगस्त 2012

ज़िंदगी ऐसी भी !




बिटिया की ड्राइंग .....

आस्था त्रिवेदी -XI




10 टिप्‍पणियां:

  1. इसी तरह करती रहो,नया नया कुछ काम
    एक दिन ऐसा आएगा, जग में होगा नाम,,,,

    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर ड्राइंग है। हर खाली जगह का भरपूर इस्तेमाल है। कंबिनेशन बहुत बढ़िया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. लाइफ तेरी नाव पर, चली गाँव की ओर |
    चिड़ियाँ की चीं चीं चहक, भाए कलरव रोर |
    भाए कलरव रोर, गौर मछली पर करना |
    दर्शन कर ले सखी, सुरक्षित गाँव उतरना |
    यमुना तेज बहाव, पहुँचते संगम तीरे |
    तीस मील पर गाँव, चलो गंगा में धीरे ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह !
    मेरा प्रिय पक्षी भी है बनाया
    चट्टान के ऊपर से है उड़ाया !

    उत्तर देंहटाएं