रविवार, 22 जुलाई 2012

जंगल में मंगल !

चित्र बनाते हुये खुद का चित्र !



चित्र बनाने में तल्लीन !



चित्र हो गया  तैयार !

13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह जी जय हो जूनियर त्रिवेदी जी की जय । माट साब चित्र बनाते हुए छोटे चित्रकार जी को ढेर स्नेहाशीष :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. कछुवा कुछ भी न छुवा, हाथी काटे केक ।

    बन्दर केला खाय के, छिलका देता फेंक ।

    छिलका देता फेंक, फिसल कर गैंडा गिरता ।

    बेहद मोटी खाल, हिरन से जाकर भिड़ता ।

    चिड़िया हंसती जाय, देख के नाटक सारा ।

    जन्म-दिवस का केक, फेंक के हाथी मारा ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह कितना प्यारा चित्र!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सुंदर
    चित्र आप बनाते है
    बनाते चलियेगा
    खूब बनाईयेगा
    पर थोड़ा बहुत
    समय ही
    इसमें लगाईयेगा
    ज्यादा समय अभी
    किताबों में ही
    आप खपाइयेगा !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर चित्र ! :)
    May God Bless You !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सभी साथियों का स्नेह के लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं